कटा हुआ सेब नारंगी रंग का क्यों होने लगता है?


कटा हुआ सेब नारंगी रंग का क्यों होने लगता है?

👉सेबों में 'टेनिन' होती है जो कषाय कारक का कार्य करती है। टॅनिन से फलों की नमी कम हो
जाती है इनका सांद्रण सेब के फलों की परिपक्व अवस्था एवं मौसम पर निर्भर करता है। जब सेब
के फल हरे होते हैं, तो उनमें टेनिन की सांद्रता अधिकतम होती है। यह सांद्रता सेब की परिपक्वता
के साथ कम होती जाती है। जब सेब को काटा जाता है या उसके टुकड़े कर दिए जाते हैं, तो
टॅनिन हवा के संपर्क में आती है। जब टॅनिन सेब में उपस्थित एंजाइमों के साथ ऑक्सीजन के संपर्क में आती है, तो ऑक्साइड बनाती है। यही ऑक्साइड कटे हुए सेब को नारंगी जैसे रंग की आभा प्रदान करती है और कटा सेब नारंगी रंग का होने लगता है

Previous Post Next Post